‘आदिपुरुष’ के लिए रामलला मंदिर के टूटे नियम, सोशल मीडिया पर टीजर के विरोध से संघ में चिंता

फिल्म ‘आदिपुरुष’ के टीजर का रिलीज के बाद से ही सोशल मीडिया पर उपहास किए जाने को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ चिंतित है।

संघ के पदाधिकारियों ने इस बारे में आपस में राय मशविरा भी किया है और इस बात की भी छानबीन की जा रही है

कि आखिर इस फिल्म का विरोध करने वाले लोग कौन हैं?  

पहली जानकारी जो सामने आई है उससे ये तो पता चलता है कि इस फिल्म का सबसे ज्यादा विरोध अभिनेता प्रभास के विरोधी खेमे और अभिनेता महेश बाबू के प्रशंसकों ने किया है।

इसके सबसे ज्यादा मीम्स भी दक्षिण भारत से ही सोशल मीडिया पर साझा होने की जानकारी सामने आई है।

शाम छह बजे के बाद खुला मंदिर : अयोध्या में 2 अक्तूबर को फिल्म ‘आदिपुरुष’ की टीम जब फिल्म का टीजर लॉन्च करने पहुंची तो सारे कलाकार लखनऊ से अयोध्या पहुंचने के बाद होटल रामायण में एकत्र हुए।

यहां से स्थानीय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की गाड़ियों के काफिले के साथ ये सारे लोग सीधे राम लला के अस्थायी मंदिर पहुंचे।

मंदिर में दर्शन का समय सुबह सात बजे से 11 बजे तक और शाम को दो बजे से छह बजे तक ही है। ये पूरा काफिला शाम छह बजे के बाद मंदिर पहुंचा लेकिन पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के आदेश पर इन लोगों को शाम छह बजे के बाद भी मंदिर के भीतर जाने दिया गया।

रामलला संग खींची तस्वीरें प्रवेश के लिए बने सरकारी नियमों का उल्लंघन होने के बाद दूसरा नियम रामलला मंदिर में फोन और कैमरे के प्रवेश पर लगी पाबंदी का टूटा। रामलला मंदिर में विराजमान रामलला और उनके तीनों भाइयों के विग्रहों की फोटो खींचने की मनाही है।